HomeGeneral Knowledgeज्वार भाटा कैसे आता है ?How does tide reflux come? ज्वार भाटा कैसे आता है ?How does tide reflux come?

ज्वार भाटा कैसे आता है ?How does tide reflux come?

सूर्य व चन्द्रमा की आकर्षण शक्तियों के कारण सागरीय जल के ऊपर उठने तथा गिरने को ज्वार भाटा कहते है |इससे उत्पन्न तरंग को ज्वारीय तरंग कहते है |यद्यपि सूर्य चन्द्रमा से बड़ा है ,तथापि सूर्य की अपेक्षा चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति का प्रवाह दुगना है |

  • 24 घंटे में प्रत्येक स्थान पर दो बार ज्वार आता है |जब सूर्य ,पृथ्वी और चन्द्रमा एक सीधी रेखा में आते है इस समय आकर्षण बल दीर्घ ज्वार का अनुभव किया जाता है |इस स्थिति को सिजिगी कहते है ,ऐसा पूर्णमासी व अमावस्या को होता है |
  • जब सूर्य ,पृथ्वी और चन्द्रमा मिलकर समकोण बनाते है तो चन्द्रमा व सूर्य का आकर्षण बल एक दुसरे के विपरीत कार्य करता है |फलस्वरूप निम्न ज्वार उत्पन्न होता है .ऐसी स्थिति कृष्ण पक्ष ,शुक्ल पक्ष सप्तमी और अष्टमी को देखा जाता है |
  • कनाडा के न्यू ब्रन्सविक तथा नोवास्कोशिया के मध्य स्थित फंडी की खाड़ी में ज्वार की ऊंचाई विश्व में सबसे अधिक (15-18 मीटर )होती है ,जबकि भारत के ओखा तट पर मात्र 2.7 मीटर होती है |
  • इग्लैंड के दक्षिणी तट पर स्थित साउथैम्टन में प्रतीदिन चार बार ज्वार आते है|(दो बार इंग्लिश चैनल से होकर तथा दो बार उत्तरी सागर से होकर )|

Also read

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *