फार्मास्युटिकल उद्योग |Pharmaceutical industry 

फार्मास्युटिकल उद्योग |Pharmaceutical industry

यह एक हल्का उद्योग है |इसी कारण कच्चे माल या बाजार के स्थान पर इस उद्योग की अवस्थिति में कोल्ड स्टोरेज,एयरकंडीसनर,परिवहन व अन्य संरचनात्मक सुविधावो की अधिक महत्वपूर्ण भूमिका है |ये सुविधाए महानगरीय क्षेत्रो में बेहतर ढंग से उपलब्ध है |

  • वर्तमान में भारत अपने रासायनिक फार्मूलेशन की 100%व बल्क ड्रग की 70% आवश्यकताओ की पूर्ति करने के लिए सक्षम बन गया है|
  • भारत अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में पेनिसिलिन व स्ट्रेप्टोमाइसीन जैसी दवाइयों की आपूर्ति करता है|
  • 1954 में हिन्दुस्तान एंटीबायोटिक्स लिमिटेड की स्थापना की गयी ,इसके प्रमुख केंद्र बंगलुरु,नागपुर और पुणे में है |
  • 1960 में इंडियन ड्रग एंड फार्मास्युटिकल लिमिटेड (IDPL)  स्थापना की गयी |
  • रैनबक्सी भारत की पहली बहुराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल (औषधि)कंपनी है |
  • परम्परागत औषधि उद्योग के अंतर्गत डाबर,वैद्यनाथ,उंझा,हमदर्द,हिमालया,जैसी कम्पनियाँ निरंतर नए उत्पादों की दिशा में प्रयासरत है |

Also read..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *