अवसादी चट्टानें | Sedimentary Rocks

अवसादी चट्टानें | Sedimentary Rocks

अवसादी चट्टानें-पृथ्वी तल पर आग्नेय व रूपांतरित चट्टानों के अपरदन के
फलस्वरूप निर्मित चट्टानों को अवसादी चट्टानें कहते है |यह चट्टाने जल वायु
हिम आदि द्वारा लाये कणों या अवसादो के जमने से बनी होती है ,अवसादी या परतदार चट्टाने झीलों ,सागरों ,या नदियों में अवसादो के जमा होने से बनती है |

-धरातल पर लगभग 75%चट्टानें अपने अवसादो के अनुशार भिन्न -भिन्न प्रकार की
होती है .बालू व बजरी के मिश्रीत से बनी अवसादी शैलो को बालू प्रधान चट्टाने
कहते है |

-अवसादी चट्टानों का निर्माण जल में घुले रासायनिक पदार्थो से भी होता है
,वनस्पति जीव -जंतु आदि के दब जाने से बनी चट्टानें कार्बनिक चट्टानें कहते है
|

-अवसादी चट्टानें वायु ,जल समुद्र की लहरों और हिमानी द्वारा लाये गये अवसादो
से बनी होती है नदी द्वारा लाये गये अवसादो को नदीकृत चट्टने कहते है |

– इन चट्टानों में लौह अयस्क, फ़ॉस्फ़ेट, कोयला, पीट, बालुका पत्थर एवं
सीमेन्ट बनाने की चट्टान पाई जाती हैं।
– खनिज तेल अवसादी चट्टानों में पाया जाता है।
– अप्रवेश्य चट्टानों की दो परतों के बीच यदि प्रवेश्य शैल की परत आ जाए,
तो खनिज तेल के लिए अनुकूल स्थिति पैदा हो जाती है।
– दामोदर, महानदी तथा गोदावरी नदी बेसिनों की अवसादी चट्टानों में कोयला
पाया जाता है।
– आगरा क़िला तथा दिल्ली का लाल क़िला बलुआ पत्थर नामक अवसादी चट्टानों से
ही बना है।प्रमुख अवसादी शैलें हैं- बालुका पत्थर, चीका शेल, चूना पत्थर,
खड़िया, नमक आदि।

Also Read..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *